Friday, 22 April 2011

शहर में मोर नाचा सबने देखा!

यह कहावत तो सभी ने सुनी होगी कि जंगल में मोर नाचा किसने देखा? मतलब जो समृद्धता ,ख्याति ,प्रदर्शन प्रत्यक्ष न हो उसके होने न होने से फर्क ही क्या  पड़ता है ....मगर जमाना अब बदल गया है अब जंगल में नहीं मोर शहर में नाच रहे हैं ....हाथ कंगन को आरसी क्या ? आप खुद इस वीडियो में देख लीजिये! मगर यह अनहोनी हुयी तो क्यों ? क्या मोर यह ताने सुनते सुनते थक गया कि उसका जंगल में नाचना मनुष्यों को रास नहीं आ रहा और उसने शहर की राह पकड़ ली ...मगर गीदड़ की मौत वाले रास्ते पर नहीं बल्कि लोगों को अपने मनभावन नृत्य से लुभाने के अभियान पर ..यह मोर इन दिनों बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के समीप  शहर में ही लोगों को अपने नृत्य से लुभा रहा है ...अब तो नर नारियां ही उसकी संगिनियाँ हैं जिन्हें देखते ही इस पक्षी का भी  मन मयूर मानो नाच हो उठता है और वह झूम उठता  है.

 पशु पक्षियों के प्राकृतिक रहवास -पर्यावास को मनुष्य ने तहस नहस कर डाला है ...यहाँ तक कि उनका पलायन शहरों की ओर  हो चला है ..कितने पक्षी अब शहरों को ही अपना प्राकृतिक वास बनाने में लग गए हैं -मोर भी ऐसा ही एक बेसहारा बिचारा पक्षी है जो मनाव आबादी के निकट  रहने की चाह में शहर की सड़कों पर चहलकदमी करने आ  पहुंचा है ....कहते हैं इनके नवजातों के दिमाग में मनुष्यों की छवियों की ऐसी    इमप्रिन्टिंग हो रही है कि वे इन्हे अपने जोड़े के रूप में भी देख रहे हैं -लिहाजा उनका सामीप्य पाने को अपना मशहूर कोर्टशिप प्रदर्शन भी करने से नहीं चूक रहे -क्या जाने किसी 'मनुष्य मोरिनी' का दिल आ ही जाय इन अदाओं पर :) 
अपने राष्ट्रीय पक्षी की इस अदा पर  मेरा दिल तो आ गया अब आपकी बारी है- (वीडिओ सौजन्य:प्रशांत शुक्ला )

13 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

मोर का नृत्य तो हम सबको भाता है। अब तो शहर में ही मोर का नृत्य देखना पड़ेगा।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

क्या खूब नृत्य कर रहे हैं, मोर महाराज...

डा० अमर कुमार said...


कउनो इच्छाधारी जीव का चक्कर-वक्कर तो नहीं है, पँडित जी । जरा ठीक से बिचरवा लीहौ, नहिं त पता लगे घरहिंन माँ सेंध लगिगा !

दर्शन लाल बवेजा said...

चिंताजनक...

राज भाटिय़ा said...

अजी यह मोर कोन सी पार्टी का हे यह जरुर बता दे

देवेन्द्र पाण्डेय said...

मेरे घर के इर्द-गिर्द मोर-मोरनी रोज धमाल मचाते हैं।

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

दोस्तों, क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से (http://sach-ka-saamana.blogspot.com/2011/04/blog-post_29.html )

Akanksha~आकांक्षा said...

खूबसूरत नृत्य, पर वाकई अब दिखता ही कहाँ है.

योगेन्द्र मौदगिल said...

क्या अदा क्या जलवे तेरे.... मोर
लिखना चाहता था कुछ,
पर लिख गया कुछ और....
खैर...
साधुवाद...

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

श्रीमान जी,मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे.ऐसा मेरा विश्वास है.

veerubhai said...

"KAAT DIYE SAB PED TO FIR KYON DHOONDHEN CHHAANV "
yahi hashr honaa hai paryaavaran vinaash kaa -
Taajmahal kee deh pe ,dekh rhaa hoon daag ,
sangmarmar kee deh par kainsar kaa ek baag .
The root cause of environmental decay is the so called economic growth and its causetive ajents ."HABITATS ARE DECAYING "Only India Habitat Centre is left behind for seminarians .
veerubhai .

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

श्रीमान जी, क्या आप हिंदी से प्रेम करते हैं? तब एक बार जरुर आये. मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे. ऐसा मेरा विश्वास है.

श्रीमान जी, हिंदी के प्रचार-प्रसार हेतु सुझाव :-आप भी अपने ब्लोगों पर "अपने ब्लॉग में हिंदी में लिखने वाला विजेट" लगाए. मैंने भी कल ही लगाये है. इससे हिंदी प्रेमियों को सुविधा और लाभ होगा.

Richa P Madhwani said...

mor par geet yaad aa raha hai