Saturday, 22 May 2010

विधाता का धंधा किया बन्दे ने मंदा :क्रैग वेंटर ने प्रयोगशाला में बनाया संश्लेषित जीवाणु -....

 मनुष्य ने एक बार फिर विधाता को ललकार दिया है ...भले  ही कहते हों कि कर्ता का मन  कुछ और है विधना का कुछ और ..मगर आदमी भी कहाँ मानने वाला जीव है ....क्रैग वेंटर और उनकी टीम ने वर्षों की लगन के बाद आखिर प्रयोगशाला में एक संश्लेषित जीवन को सृजित कर  लेने में सफलता पा ली है .यह कुदरत से एक अलग करिश्मा है ..आधुनिक विश्वामित्र एक नई श्रृष्टि को रचने को उद्यत हो उठे हैं .यह है वह शोध आलेख के संक्षिप्ति का मूल आलेख जो विश्वविख्यात  साईंस पत्रिका के २० मई २०१०  के आनलाईन संस्करण में प्रकाशित हुआ है -

Creation of a Bacterial Cell Controlled by a Chemically Synthesized Genome

Daniel G. Gibson,1 John I. Glass,1 Carole Lartigue,1 Vladimir N. Noskov,1 Ray-Yuan Chuang,1 Mikkel A. Algire,1 Gwynedd A. Benders,2 Michael G. Montague,1 Li Ma,1 Monzia M. Moodie,1 Chuck Merryman,1 Sanjay Vashee,1 Radha Krishnakumar,1 Nacyra Assad-Garcia,1 Cynthia Andrews-Pfannkoch,1 Evgeniya A. Denisova,1 Lei Young,1 Zhi-Qing Qi,1 Thomas H. Segall-Shapiro,1 Christopher H. Calvey,1 Prashanth P. Parmar,1 Clyde A. Hutchison, III,2 Hamilton O. Smith,2 J. Craig Venter1,2,*
We report the design, synthesis, and assembly of the 1.08-Mbp Mycoplasma mycoides JCVI-syn1.0 genome starting from digitized genome sequence information and its transplantation into a Mycoplasma capricolum recipient cell to create new Mycoplasma mycoides cells that are controlled only by the synthetic chromosome. The only DNA in the cells is the designed synthetic DNA sequence, including "watermark" sequences and other designed gene deletions and polymorphisms, and mutations acquired during the building process. The new cells have expected phenotypic properties and are capable of continuous self-replication.
1 The J. Craig Venter Institute, 9704 Medical Center Drive, Rockville, MD 20850, USA.
2 The J. Craig Venter Institute, 10355 Science Center Drive, San Diego, CA 92121, USA.

* To whom correspondence should be addressed. E-mail: jcventer@jcvi.org

Received for publication 9 April 2010. Accepted for publication 13 May 2010.
ध्यान दीजिये इस टीम में तीन भारतीय हैं और क्रैग की विनम्रता देखिये उन्होंने अपना नाम सबसे अंत में रखा है .भारतीय मूल के शोधार्थी हैं संजय वाशी ,राधा कृष्णकुमार और प्रशांत पी पार्मर .आईये आपको अंगरेजी में छपी  इस संक्षिप्ति का भी सार बता दें -वो कहते हैं न 'सार सार को गहि रहे थोथा देय उडाय' वैसे यहाँ थोथा है भी नहीं -सॉलिड रिसर्च है बाबा ....इस भारी भरकम टीम (मैंने गिना २५ ,आप भी ट्राई करें !)का कहना है कि उन्होंने "रासायनिक संश्लेषित जीनोम द्वारा नियंत्रित जीवाणु कोशा का सृजन " कर दिखाया है -.
हम 1.08-Mbp Mycoplasma mycoides JCVI-syn1.० जीवाणु की सरंचना ,संश्लेषण और संयोजन की घोषणा करते हैं जिसकी  डिजिटलीकृत जीनोम सीक्वेंस सूचना -  संस्थापन  एक दूसरे जीवाणु Mycoplasma capricolum  में करते हुए एक नए
Mycoplasma mycoides  जीवाणु  का सृजन किया गया है जो संश्लेषित गुणसूत्र द्वारा नियंत्रित है .इस नए सृजित जीवाणु का "डी एन ऐ  संरचित और  संश्लेषित  है  और वाटरमार्क से युक्त भी  ..और यह  पुन्रुद्भवन  की क्षमता भी रखता है  "  
 इस तरह जैविकी के इतिहास में एक नया अध्याय शुरू हो गया है ! भले ही इस पर बहुत वाद विवाद होगा मगर मित्र जीवाणुओं की फ़ौज और उनसे औषधियों का दोहन अब आसान हो जायेगा ! समुद्रों के तेल संदूषणों और कई अन्य प्रदूषणों को दूर करने में कृत्रिम जीवाणुओं की फ़ौज कारगर होगी ! अजोन परत की पुनरुस्थापना में  भी ये जीवाणु मददगार होगें ! बस इनके रोगाणु में उत्परिवर्तित हो जाने के खतरे हैं जिनका कोई आतंकवादी संगठन भी बेजा इस्तेमाल कर सकता है .हमें इन जीवाणुओं से जुड़े सुरक्षा के मानकों को बहुत ऊंचा रखना होगा !
बहरहाल हम इस कृत्रिम  जीवाणु युग का स्वागत करते हैं ..!

12 comments:

योगेन्द्र मौदगिल said...

badiya jaankaaari....

Udan Tashtari said...

जानकर अच्छा लगा, आभार!

निशांत मिश्र - Nishant Mishra said...

मिश्र जी, वेंटर की टीम ने कृत्रिम जीनोम को एक अन्य जीवित बैक्टीरिया में प्रविष्ट करके सर्वथा नए बैक्टीरिया की रचना की है पर उन्होंने स्वयं नया बैक्टीरिया नहीं बनाया. He is not playing God.

गिरिजेश राव said...

फोटो बड़ा आकर्षक दिख रहा है।
इससे मिलता जुलता लेख साइंस ब्लॉगर संघ पर भी छपा था। मैंने उसे भी पढ़ा है। यह संश्लेषण तो उपलब्ध प्राकृतिक जीवाणु में ही संस्थापन है।
दिल्ली दूरस्त।
फिर भी यह उपलब्धि ऐतिहासिक है। इस विषय पर एक विज्ञान कथा की पूरी सम्भावना बनती है। एक ठो लिख दीजिए।

समय said...

यह वाकई एक महान ऐतिहासिक उपलब्धि है, जो मनुष्य की इस विश्व को समझने और ख़ुद अपना नियंता बनाने की कवायदों के लिए एक मील का पत्थर साबित होगी।

शुक्रिया।

Arvind Mishra said...

@निशांत जी ,जो नया जीवाणु तैयार हुआ है वह निसर्ग में तो था नहीं अतः नया ही तो हुआ -हाँ अभी तक मूल जीवन की इकाई को नही बनाया जा सका है !

Suman said...

nice

बेचैन आत्मा said...

..बस इनके रोगाणु में उत्परिवर्तित हो जाने के खतरे हैं जिनका कोई आतंकवादी संगठन भी बेजा इस्तेमाल कर सकता है..
..विज्ञान के साथ यही समस्या है. बस ...जिंदगी खत्म.
..समाज सुधारकों, संतों को चाहिए विज्ञान की प्रगति के साथ-साथ इंसान को अच्छा बनाने का भी नया-नया तरीका इजाद करें..वरना विज्ञान के आविष्कार ही हमें खत्म कर देंगे.

zeal said...

Congratulations to the worthy scientists !

I fully agree with Bechain aatama ji.

प्रवीण पाण्डेय said...

जूझ रहे हैं प्रकृति रहस्यों से उसके ही श्रेष्ठ पुत्र ।

डॉ. मनोज मिश्र said...

नई जानकारी,धन्यवाद.

अल्पना वर्मा said...

क्रन्तिकारी खोज!