Monday, 16 February 2009

डार्विन की चुनिन्दा कृतियाँ (डार्विन द्विशती )

डार्विन का समग्र साहित्य अब अंतर्जाल पर सहज ही सुलभ है। उनकी कुछ चुनिन्दा कृतियाँ कालक्रमानुसार निम्नवत् हैं:-
(1) द वोयेज ऑफ बीगल (1839)
(2) जियोलाजिकल आब्जरवेशन्स आन साउथ अमेरिका (1844)
(3) वोल्कैनिक आइलैण्डस (1844)
(4) द ओरिजिन आफ स्पीशीज (1844)
(5) फर्टीलाइजेशन आफ आिर्कड्स (1862)
(6) द मूवमेन्ट्स एण्ड हैबिट्स ऑफ क्लाइिम्बंग प्लाण्ट्स (1865)
(7) वैरियेशन आफ एनिमल्स एण्ड प्लान्ट्स अण्डर डोमेस्टिकेशन
(8) डीसेन्ट आफ मैन एण्ड सेलेक्शन इन रिलेशन टू सेक्स (1871)
(9) इक्सप्रेशन आफ द इमोशन्स इन मेन एण्ड एनिमल्स (1872)
(10) इन्सेक्टीवोरस प्लाण्ट्स (1875)
(11) इफेक्ट्स ऑफ क्रास एड सेल्फ फर्टिलाइजेशन इन द वेजीटेबल किंगडम (1876)
(12) द डिफरेन्ट फाम्र्स आफ फ्लावर्स आन प्लान्ट्स आफ सेम स्पीशीज (1877)
डार्विन की आत्मकथा आप हिन्दी ब्लॉग जगत में भी पढ़ सकते हैं जिसकी एक सहज प्रस्तुति रचनाकार (अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी) दृष्टव्य है !


10 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत आभार आपका इस लिंक और जानकारी े लिये.

रामराम.

seema gupta said...

कल के आपके लेख के बाद यही विचार मन में आया था की डार्विन की कुछ पुस्तके पढ़नी चईये...और आज जैसे मन मांगी मुराद पुरी हो गयी......"
Regards

अल्पना वर्मा said...

यह तो अमूल्य जानकारी है.धन्यवाद.

रंजना [रंजू भाटिया] said...

इस जानकारी के लिए धन्यवाद

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

अरे वाह, मैंने तो सिर्फ एक ही पुस्तक का नाम सुना था। जानकारी के लिए आभार।

योगेन्द्र मौदगिल said...

बेहतरीन जानकारी दी है आपने, वाह.. दादा, वाह..

समीर सृज़न said...

बहुत बहुत धन्यवाद इस जानकारी के लिए...आपके ब्लॉग पर पहली बार आया हूँ..अच्छा लगा..बधाई..

हिमांशु said...

पुस्तकों की पूरी सूची और और उनकी उपलब्धता के लिंक के लिये धन्यवाद.

Shastri said...

इस सूची के लिये आभार !!

हां, इन लालपीले रंगों को टाटा करके यदि आप काले रंग का प्रयोग करने लगें तो गंभीर चिट्ठा वाकई में गंभीर दिखने लगेगा.

सस्नेह -- शास्त्री

परमजीत बाली said...

आभार।